बोधगया के एक होटल में म्यांमार की महिलाओं को मिले थे यूएस डॉलर

gayadarshan Image

बोधगया : गया इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर रविवार को यूएस डॉलर के साथ पकड़ी गईं म्यांमार की पांच महिलाओं के तार बोधगया से यंगून तक जुड़े थे। महिलाओं ने पूछताछ में सनसनीखेज जानकारी देते हुए बताया है कि उन्हें बोधगया के होटल में एक महिला ने यूएस डॉलर दिए थे। उसे यंगून तक पहुंचाना था, उसके बाद वहां कोई व्यक्ति उसे लेने पहुंचता। यह जानकारी सामने आते ही खुफिया एजेंसियों के साथ आर्थिक अपराध इकाई के अधिकारियों ने भी जांच शुरू कर दी है। वहीं सभी पांचों महिलाओं के विरुद्ध सोमवार को कस्टम एक्ट-1962 के तहत मामला दर्ज कर उन्हें पटना स्थित कस्टम न्यायालय में प्रस्तुत किया गया, जहां से सभी को जेल भेज दिया गया।

कस्टम कमिश्नर एलटी भूटिया ने बताया कि सभी पांचों महिलाओं ने पूछताछ में बताया कि वे बोधगया के एक होटल में ठहरी थीं। जहां एक महिला द्वारा यूएस डॉलर दिए गए थे। यंगून पहुंचने पर उसे कोई आदमी लेने के लिए पहुंचता। ये सभी महिलाएं 17 जनवरी को गया आई थीं और 19 जनवरी को लौट रही थीं। एयरपोर्ट पर जांच के समय यूएस डॉलर मिलने पर इन्हें हिरासत में ले लिया गया। जांच के बाद सभी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया। इसके साथ बरामद विदेशी मुद्रा को जब्त कर लिया गया। सभी महिलाओं के पास से कुल तीन लाख, 11 हजार 400 यूएस डॉलर बरामद किए गए थे। इसका भारतीय मुद्रा में मूल्य दो करोड़, 21 लाख, 21 हजार 856 रुपये है। जेल भेजी गईं म्यांमार की महिलाओं में आए थीदर, नी नी ल्वीन, आए सन्दर, न्यू नी थान व खीन थीदर तुन शामिल है।

खुफिया एजेंसियों भी हुईं सतर्क, हो रही है जांच

एयरपोर्ट पर यूएस डॉलर के साथ म्यांमार की पांच महिलाओं के पकड़े जाने के बाद खुफिया एजेंसियां भी सतर्क हो गई हैं। दरअसल, विदेशी महिलाओं को हवाला के जरिये यंगून तक विदेशी मुद्रा को पहुंचाने का जिम्मा सौंपा गया था। पूछताछ में यह बात उजागर होने के बाद एजेंसियों के अधिकारी इसका दूसरा कनेक्शन भी तलाश रहे हैं। इसी के साथ खुफिया तरीके से इसकी भी जांच की जा रही है कि बोधगया की धरती को कहीं हवाला के लिए तो नहीं इस्तेमाल किया जा रहा है? कारण यह कि यहां अक्सर विदेशी लोगों का जमावड़ा लगा रहता है।

पटना स्थित कस्टम न्यायालय में पेश कर पांचों महिलाओं को भेजा गया जेल, कस्टम एक्ट-1962 के तहत दर्ज हुआ मामला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *